Provisional Certificate Meaning in Hindi

जब हम मैट्रिक, इंटर या ग्रेजुएशन की परीक्षा देते हैं, तो हमें परिणाम मिलते हैं; परिणाम यानी हमारा रिजल्ट। ज्यादातर भारत के बोर्ड से जैसे बीएसईबी, सीबीएसई, आदि के परीक्षा पास करने पर हमें रिजल्ट के रूप में प्रोविजनल सर्टिफिकेट मिलता है। बहुत लोग अपने ज्ञान में यह बात रखते हैं कि उनका प्रोविजनल सर्टिफिकेट ही उनकी डिग्री है, पर सत्य कुछ और ही है, जो हमने इस लेख में बताया है।‌ इस लेख में हमने प्रोफेशनल सर्टिफिकेट मीनिंग इन हिंदी और प्रोविजनल सर्टिफिकेट से जुड़ी पूर्ण महत्वपूर्ण जानकारियां आपके साथ साझा करने की कोशिश की है, जो हमारे सर्च के अनुसार पूर्ण रूप से तथ्यात्मक एवं सकते हैं। आप इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें।

Provisional Certificate

Provisional Certificate Meaning In Hindi

प्रोविजनल सर्टिफिकेट का हिंदी अर्थ अस्थाई प्रमाण-पत्र होता है, जहां “अस्थाई प्रमाण पत्र” में अस्थाई का‌ सरल अर्थ “थोड़े समय के लिए वैध” होता है।

Provisional Certificate क्या है?

प्रोविजनल सर्टिफिकेट यानी अस्थाई प्रमाण-पत्र वह होते हैं, जो हमें परीक्षा के परिणाम के रूप में किसी शिक्षा बोर्ड द्वारा दिया जाता है। इस सर्टिफिकेट का स्थाई होने से तात्पर्य है, कि यह केवल एक अवधि के लिए ही मान्य होते हैं, और अवधि के खत्म होने के बाद प्रोविजनल सर्टिफिकेट का कोई मान्य ही नहीं रहता है।

Provisional Certificate की मान्य अवधि।

प्रोविजनल सर्टिफिकेट यानी अस्थाई प्रमाण-पत्र का कोई निश्चित मान्य अवधि नहीं है। प्रोविजनल सर्टिफिकेट यानी अस्थाई प्रमाण-पत्र उस समय तक मान्य रहता है, जब तक आप अपनी शिक्षा बोर्ड द्वारा जारी परमानेंट सर्टिफिकेट यानी स्थाई प्रमाण पत्र नहीं प्राप्त करते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दे परमानेंट सर्टिफिकेट यानी स्थाई प्रमाण पत्र को ही डिग्री सर्टिफिकेट कहा जाता है। यह वो सर्टिफिकेट होते हैं, जिसकी मान्य अवधि पूरे जीवन काल की होती है। आमतौर पर परमानेंट सर्टिफिकेट हमारे परीक्षा के तीन या चार वर्षो बाद मिलता है।

परमानेंट सर्टिफिकेट एवं प्रोफेशनल सर्टिफिकेट में अंतर।

परमानेंट सर्टिफिकेट एवं प्रोफेशनल सर्टिफिकेट में निम्नलिखित अंतर है, आप निम्नलिखित अंतर को सावधानीपूर्वक पढ़ें एवं अपने ज्ञान में वृद्धि करे।

१. परमानेंट सर्टिफिकेट जीवन काल के लिए मान्य होता है, जबकि प्रोफेशनल सर्टिफिकेट अस्थाई अवधि के लिए ही मान्य होता है।

२. परमानेंट सर्टिफिकेट परीक्षा के खत्म होने के 3 या 4 वर्ष बाद में मिलता है, जबकि प्रोविजनल सर्टिफिकेट Exam के खत्म होने के एक या दो महीने बाद परिणाम के रूप में जारी किया जाता है।

इन्हें भी पढ़ें:
Podcast क्या है?

आशा है! आपको उपर्युक्त संपूर्ण जानकारियां ज्ञानवर्धक प्रतीत हुई होंगी, और आपको या भी जानकारी प्राप्त करनी है को प्राप्त हुई होगी की प्रोविजनल सर्टिफिकेट मीनिंग इन हिंदी और प्रोविजनल सर्टिफिकेट क्या है। यदि आपको हमारी यह लेख पसंद आई तो, इसे अपने मित्रों के साथ फेसबुक, व्हाट्सएप, आदी पर शेयर करके ज्ञानदीप को आपके जैसे और अधिक हिंदी पाठकों तक पहुंचने में सहायता करें।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां