HTML क्या है, और इसका इतिहास कैसा है?

HTML

जिस प्रकार हम मानव जाति को किसी भाषा के शब्द को समझने‌ के लिए उस भाषा का ज्ञान होना आवश्यक है, उसी प्रकार Web Browser को भी‌ किसी भाषा के शब्द को समझने के लिए एक भाषा की जरूरत पड़ती है, जो HTML है। ‌यदि आप HTML से जुड़ी संपूर्ण महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें। क्योंकि इस लेख में हमने HTML से जुड़ी जानकारियां आपके साथ साझा करने की कोशिश की है, जो हमारे रिसर्च के अनुसार पूर्ण रूप से तथ्यात्मक एवं सत्य हैं।

HTML क्या होता है?

HTML या Hypertext Markup Language एक Markup Language यानी किसी Text को Web Browser (क्रोम, यूसी ब्राउजर, फायर फॉक्स, आदि) पर दिखाने के लिए Use में ली जाने वाली भाषा है।

HTML के बारे में।

यदि आपको ऊपर दी गई HTML की परिभाषा से यह समझ में नहीं आया कि HTML होते क्या है? तो दूसरे शब्दों में आप यह भी कह सकते हैं कि वह भाषा जो Web Browser जैसे क्रोम, यूसी ब्राउजर, फायर फॉक्स, आदि द्वारा समझा जाता है, उसे ही HTML या Hypertext Markup Language कहते हैं।

दरअसल HTML का प्रयोग Web Browser को यह समझाने के लिए किया जाता है की लिखा हुआ Text मानव द्वारा बोलें जाने वाले कौन सी भाषा (हिंदी, उर्दू, अंग्रेजी, आदि) का शब्द है, एवं उस शब्द का अर्थ क्या है; यानी इसका सीधा सा अर्थ यह हुआ कि Web Browser हर भाषा को समझ सकता है यदि हम उसे एचटीएमएल के रूप में लिखते हैं, चाहे वह भाषा अंग्रेजी, हिंदी, मैथिली, बंगाली, पंजाबी, उर्दू, आदि कोई भी हो।

यदि हम बात करें HTML के किसी भी डॉक्यूमेंट के उदाहरण की तो हम आपको यह बता दें कि आप इस वेबसाइट पर जो यह लेख पढ़ रही हैं, यह भी एचटीएमएल में लिखा हुआ है, जिसमें आपको एचटीएमएल का फॉर्मेट की जगह पर केवल हिंदी भाषा के शब्दों का टेक्स्ट ही दिखाई दे रही है,‌ लेकिन आपके ब्राउज़र के नजर में यह लेख एचटीएमएल में लिखा हुआ है।

यदि आप चाहें तो इस लेख का एचटीएमएल फॉरमैट भी देख सकते हैं, यानी आप यह भी देख सकते हैं कि आपका वेब ब्राउज़र इस लेख को किस रूप में देख रहा है। आपको इस लेख को एचटीएमएल के रूप में देखने के लिए केवल इतना होगा कि आप इस लेख के URL के आगे view-source: लगा दे।

उदाहरण के लिए जैसा कि इस लेख का यूआरएल (https://www.gyandeep.co/2021/02/html-kya-hota-hai.html) है, तो आपको इस यूआरएल के आगे (view-source:) लगाना होगा, जिसके बाद यूआरएल कुछ इस प्रकार (view-source:https://www.gyandeep.co/2021/02/html-kya-hota-hai.html) बन जाएगा, और फिर आप इस यूआरएल को Visit करके इस लेख का एचटीएमएल फॉर्मेट देख पाएंगे।

HTML के बारे में कुछ विशेष तथ्य।

HTML के बारे में कुछ विशेष तथ्य निम्नलिखित हैं।

• HTML फाइल का प्रकार .html एवं .htm दोनों होता है।

• HTML का सर्वप्रथम Version को आज से 28 वर्ष पूर्व 1993 में बनाया गया था,‌ एवं इसका सबसे Latest Version जो Living Standard है, उसे 2021 में Release किया गया है।

HTML का Use कहां होता है?

HTML का Use तो विभिन्न कार्यों में किया जाता है, लेकिन हमने मुख्य निम्नलिखित कार्यों को लिखा है।

• वेब पेज की बेसिक लेआउट बनाने या डिजाइन करने के लिए HTML का उपयोग किया जाता है।

• HTML के सहायता से वेब पेज पर टेक्स्ट, फोटो, वीडियो, लिंक आदि को (Embedding) जोड़ा जाता है।

HTML का इतिहास।

सर्वप्रथम 1980 में एक भौतिक विज्ञानीक Tim Berners-Lee, जो European Organization for Nuclear Research के ठेकेदार थे। उन्होंने ENQUIRE नामक एक लिखित सॉफ्टवेयर का प्रस्ताव रखा था, जिससे वह European Organization for Nuclear Research में हो रहे हैं सारे रिसर्च के दस्तावेजों का उपयोग एवं साझा करना चाहते थे। फिर ‌1989 में Tim Berners-Lee ने एक Memo लिखा जो कि इंटरनेट अधिकारीत यानी इंटरनेट पर चलने वाला हाइपरटेक्स्ट सिस्टम था, इंटरनेट अधिकृत हाइपरटेक्स्ट लिखने के बाद Berners-Lee ने इस हाइपरटेक्स्ट को एचटीएमएल का नाम दिया एवं 1990 के अंत में इंटरनेट का पहला वेब ब्राउज़र बनाया।

1990‌ में ही Berners-Lee एवं European Organization for Nuclear Research के डाटा साइंटिस्ट इंजीनियर Robert Cailliau ने साथ मिलकर फंडिंग की, लेकिन इस प्रोजेक्ट को European Organization for Nuclear Research द्वारा औपचारिक रूप से नहीं लिया गया। सबसे पहले जो एचटीएमएल का डॉक्यूमेंट आम लोगों के सामने प्रकाशित किया गया था उसका नाम "HTML Tags" ही दिया गया था, जिनमें एचडी में टाइल्स के 18 प्रारंभिक Tags मौजूद थे।

निष्कर्ष।

आशा है! उपर्युक्त जानकारियां आपको ज्ञानवर्धक प्रतीत हुई होगी, एवं आपको इस बात का भी ज्ञान प्राप्त करने को मिला होगा कि HTML क्या होता है? यदि आपको हमारी यह लेख पसंद आए तो इसे अपने मित्रों के साथ फेसबुक, व्हाट्सएप, आदि पर शेयर करके ज्ञानदीप को अपने जैसे और हिंदी पाठकों तक पहुंचने में सहायता कर सकते हैं।


Post a Comment

0 Comments