ISP Full Form In Hindi - ISP क्या है?

ISP एक संगठन है, जो अनगिनत इंटरनेट सेवाओं को हम तक पहुंचाने में मदद करता है। वर्तमान समय में इंटरनेट एक ऐसा चीज है, जिसका इस्तेमाल हर व्यक्ति करता ही है। आजकल इंटरनेट की मदद से ही सारे कार्य पूरे किए जा रहे हैं चाहे वह स्कूल के हो ऑफिस के हो या सरकारी हो। यदि आप आईएसपी के बारे में जानने के लिए थोड़े भी इच्छुक हैं, तो हम आपको बता दें कि इस लेख में हमने ISP Full Form In Hindi एवं आईएसपी से जुड़ी तमाम जानकारियां आपके सामने रखने की कोशिश की है, जो हमारे रिसर्च के अनुसार पूर्ण रूप से तथ्यात्मक एवं सत्य हैं। आप इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें, और अपने ज्ञान की वृद्धि करें।

ISP Full Form

ISP Full Form In Hindi

ISP का Full Form “Internet Service Provider” होता है, जिसका हिंदी अर्थ यानी हिंदी Full Form “अंतराजाल/इंटरनेट सेवा प्रदाता” है।

ISP क्या है?

ISP यानी Internet Service Provider एक संगठन है, जो इंटरनेट सेवा प्रदाता है, यानी पूरे विश्व में इंटरनेट की सेवाएं प्रदान करने का कार्य करती है।

Internet Service Provider को विभिन्न रूपों में आयोजित (Organise) किया जा सकता है, जैसे व्यावसायिक, किसी खास समुदाय का, बिना लाभ देने वाला, या फिर किसी प्राइवेट यानी निजी समुदाय का हो सकता है।

ISP का कार्य क्या है?

ISP जिन सेवाओं को दुनिया भर में उपलब्ध कराता है; यानी ISP जो कार्य करता है, वह निम्नलिखित है।

१. इंटरनेट का उपयोग करने की सेवा प्रदान करना।

२. इंटरनेट की सेवाओं में परिवर्तन करना।

३. वेबसाइट के लिए डोमेन नाम रजिस्टर करवाने की सुविधा का सहायता करना।

४. वेबसाइट के लिए वेब होस्टिंग की सुविधा का सहायता प्रदान करना।

५. उपनिवेश केंद्र के सहायता से Users को‌ उपकरणों का प्रबंध कराना।

६. Usenet की सेवाओं को उपलब्ध कराना।

ISP के ‌कितने Tiers है?

ISP के ‌तीन Tiers है,‌ जो निम्नलिखित हैं।

Tier1

Tier1 कंपनियां वह होती हैं, जो समंदर के रास्ते से पूरे विश्व में Fiber Optic Cables बिछाते हैं, इन्हीं Fiber Optic Cables के मदद से दुनिया के हर एक कोने में इंटरनेट पहुंचता है,‌ तभी हम इंटरनेट इस्तेमाल कर पाते हैं। Verizon, Packet, आदि जैसे कंपनियां Tier1 कंपनी कहलाती है।

Tier2

Tier2 कंपनियां वह होती हैं, जो राष्ट्रीय स्तर पर यानी देश में इंटरनेट सेवाओं की सुविधा प्राप्त कराने का कार्य करती है, अगर हम बात करें भारत के Tier2 कंपनियों की तो ये Jio, Airtel, आदि हैं।

Tier3

Tier3 कंपनियां वह होती हैं, जो किसी देश के अंदर छोटे-छोटे स्थानों में इंटरनेट की सेवाएं प्रदान करती है। Ticona, DEN, आदि जैसी कंपनियां को Tier3 कंपनी कहा जाता है।

ISP के कितने प्रकार हैं?

वर्तमान में ISP के 5 प्रकार हैं, जो निम्नलिखित हैं।

१. Satellite: 

२. DSL

३. Broadband Cable

४. Fiber-Optic Cable

५. Wi-Fi Broadband

ISP का इतिहास।

इंटरनेट जिसका वास्तविक नाम ARPANET यानी Advanced Research Projects Agency Network है, इसकी खोज आज से 52 वर्ष पूर्व 1969 में सरकारी अनुसंधान प्रयोगशालाओं एवं विश्वविद्यालयों के भाग लेने वाले विभागों के बीच के लिए एक नेटवर्क के रूप में की गई थी।

1980 के दौर में पहली बार ISP के ‌America On Line और CompuServe ने मिलकर इंटरनेट की कुछ सेवाओं को आम जनता के लिए पेशकश की थी, जिसमें ईमेल भेजने और इमेल प्राप्त करने का सुविधा प्राप्त हुआ था; उस वक्त भी आम जनता के लिए इंटरनेट की पूरी सेवाएं उपलब्ध नहीं थी।

1989 में ISP के कुछ सेवा प्रदाता ने आम जनता को भी मासिक शुल्क यानी 1 महीने का इंटरनेट खर्च के साथ इंटरनेट इस्तेमाल करने कि सुविधा प्रदान कराई, जिन देशों में सबसे पहले आम जनता को इंटरनेट की सुविधा मिली, वह देश संयुक्त राष्ट्र अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया‌ है।

इन्हें भी पढ़ें:

आशा है! ऊपर दी गई जानकारियां आपको ज्ञानवर्धक लगी होंगी, और आपको ISP Full Form In Hindi एवं आईएसपी से जुड़ी तमाम महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त करने को भी मिली होंगी। यदि आपको हमारी यह लेख पसंद आइ तो इसे अपने मित्रों के साथ फेसबुक, व्हाट्सएप, आदि पर शेयर करके ज्ञानदीप को अपने जैसे और हिंदी पाठकों तक पहुंचने में सहायता करें।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां