IPS Full Form In Hindi | IPS क्या है?

IPS जिसे आम भाषा में भारतीय पुलिस भी कहते हैं, यह अखिल भारतीय सेवा के अंतर्गत आने वाली एक पुलिस सेवा है; भारतीय पुलिस यानी आईपीएस का गठन भारत की आजादी के 1 वर्ष बाद यानी आज से 74 वर्ष पूर्व 1948 में की गई थी। भारतीय पुलिस से भारत का नागरिक परिचित है, यदि आप भारतीय पुलिस यानी आईपीएस के बारे में जानने के लिए थोड़े भी इच्छुक हैं, तो यह लेख आपके लिए बहुत ही ज्ञानवर्धक साबित हो सकता है। क्योंकि इस लेख में हमने बताया है कि IPS Full Form In Hindi क्या है? जो हमारे रिसर्च के अनुसार पूर्ण रूप से तथ्यात्मक एवं सत्य है। यदि आप आईपीएस के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें और आईपीएस यानी भारतीय पुलिस के बारे में तमाम महत्वपूर्ण जानकारियां प्राप्त करें।

IPS Full Form In Hindi

IPS का Full Form “Indian Police Service” होता है, जिसका हिंदी अर्थ यानी हिंदी Full Form “भारतीय पुलिस सेवा” है।

IPS क्या है?

IPS यानी Indian Police Service भारत की एक पुलिस सेवा है, जो ऑल इंडिया सर्विसेज यानी अखिल भारतीय सेवा के अंतर्गत आती है। IPS राज्य सरकार एवं केंद्र सरकार के दिशानिर्देश अपने कर्तव्यों का पालन करती है, एवं राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में कानून व्यवस्था बनाए रखने में बड़ा योगदान देती है।

IPS के बारे में।

IPS यानी Indian Police Service का गठन आज से 74 वर्ष पूर्व भारत की आजादी से ठीक 1 वर्ष बाद 1948 को की गई थी। भारत की आजादी से पहले Indian Police Service का नाम IIP यानी Indian Imperial Police था, जिसका गठन ब्रिटिश सरकार ने भारत की आजादी से 42 वर्ष पूर्व 1905 में किया था, इन बातों से याशह अर्थ निकलता है कि Indian Imperial Police का ही नाम बदल कर भारत की आजादी के 1 वर्ष बाद 1948 में Indian Police Service रख दिया गया‌ था।

आप यह भी जानकारी प्राप्त करने की Indian Police Service का गठन भारत के संविधान अनुच्छेद 312 (2) के अंश XIV के अंतर्गत किया गया है,‌ और IPS का Motto “सत्यमेव जयते” जो संस्कृत में‌ है। यदि हम बात करें “सत्यमेव जयते” के हिंदी अर्थ की तो यह “सत्य की हमेशा विजय” होती है। सत्यमेव जयते का अंग्रेजी ट्रांसलेशन Truth Alone Triumphs है।

IPS का कार्य क्या है?

Indian Police Service का‌ कार्य निम्नलिखित है।

१. कानून व्यवस्था को बनाए रखना।

२. अपराधो की जांच पड़ताल करना।

३. आतंकवाद का सफाया करना।

४. खुफिया एजेंसी की सुरक्षा करना।

५. सार्वजनिक व्यवस्था को बनाए रखना।

६. किसी वीआईपी के ‌ रक्षा का विशेष ध्यान रखना।

७. आपदा की स्थिति में राहत दिलाने का कार्य करना।

IPS में महिलाओं का योगदान।

1972 में भारत की पहली महिला आईपीएस ऑफिसर “किरण बेदी” बनी थी, किरण बेदी 80 के दशक IPS के Batch में एकमात्र महिला थी।

IPS का इतिहास।

1981 में ब्रिटिश सरकार ने भारतीय परिषद अधिनियम पेश किया ‌था। इस अधिनियम के तहत भारत में पुलिस का नया समूह का गठन किया‌‌ था, जिसका नाम Superior Police Services था, 1905 में इसी पुलिस समूह का नाम बदलकर Indian Imperial Police रखा गया था,‌ जो वर्तमान में Indian Police Service है।

IPS कैसे बने?

यदि आप एक आईपीएस ऑफिसर बनना चाहते हैं, तो आप में या आपके पास निम्नलिखित गुण या आवश्यकताओं होना अवश्य हैं।

१. सर्वप्रथम कि आप भारत के नागरिक हो। (महिला एवं पुरुष दोनों के लिए)

२. द्वितीय कि आपकी उम्र कम से कम 21 वर्ष, और अधिकतम 30 वर्ष हो। (महिला एवं पुरुष दोनों के लिए)

३. तृतीय कि आपके पास किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से बैचलर की डिग्री प्राप्त हो। (महिला एवं पुरुष दोनों के लिए)

४. चौथा की (यदि आप पुरुष हैं) आप की लंबाई 165 सेंटीमीटर हो, और आपकी छाती 84 सेंटीमीटर हो। आप अगर SC/OBC समुदाय से हो तो आपकी छाती 160 सेंटीमीटर न्यूनतम होनी चाहिए।

(यदि आप महिला हैं) आप की लंबाई 150 सेंटीमीटर हो, और आपकी छाती 79 सेंटीमीटर हो। आप अगर SC/OBC समुदाय से हो तो आपकी छाती 145 सेंटीमीटर न्यूनतम होनी चाहिए।

५. पांचवां की आपकी दृष्टि जानी आंखों से देखने का दृष्टि 6/6 या 6/9 होना चाहिए।

यदि आपके पास ऊपर लिखे हुए पांचो आवश्यकताए‌ उपलब्ध हैं, तो आईपीएस ऑफिसर बनने के योग्य हैं। ‌तो चलिए अब हम जानते हैं कि आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए कौन-कौन से कार्य करना पड़ता है।

१. यदि आप एक आईपीएस ऑफिसर बनने के लिए इच्छुक हैं तो सर्वप्रथम आपको सिविल सेवा परीक्षा के लिए आवेदन देना होता है, जो UPSC यानी Union Public Service Commission‌ आयोजित करती है।

२. द्वितीय आप CSE की प्रारंभिक परीक्षा लिखें, यह परीक्षा साल के मई-जून महीने में ली जाती है, इसका परिणाम जुलाई अगस्त के महीने में जारी किया जाता है।

३. यदि आप CSE की प्रारंभिक परीक्षा में सफल हो जाती हैं, ओ तृतीय में आपको CSE मेन्स की परीक्षा देनी होती है, जो अक्टूबर के महीने में आयोजित किया जाता है।

४. अभी फिर आप CSE मेन्स की परीक्षा मैं भी सफल हो जाती हैं, तो आपको एक पर्सनल इंटरव्यू यानी व्यक्तिगत साक्षात्कार प्रक्रिया‌ से गुजरना पड़ता है, जो UPSC के अधिकारी लेते हैं।

यदि आप आईपीएस ऑफिसर बनने के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप IPS पर क्लिक करके इसकी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

ips

ऊपर दी गई जानकारियां पढ़ने के बाद अब तक आपको IPS के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त हो चुकी होगी, यदि इस लेख को पढ़ने के बाद आपके पास IPS से संबंधी कोई प्रश्न हो तो आप नीचे कमेंट करके अवश्य पूछे, हम जल्द से जल्द आपके प्रश्न का उत्तर देने का प्रयास करेंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ